मन

Image via Pixabay

दिल की हर साज़ पे नाम तुम्हारा है,
मन की हर आवाज़ में नाम तुम्हारा है,
यूँ तड़पने की हमें आदत न थी,
ज़िन्दगी में कभी इबादत न की,
तुझे पाया तो खुशी से मगरूर
खोया भी तो एक दस्तूर होगा,
हमें किस्सा बनाना है या तेरा हिस्सा,
अब तो बस ये काम तुम्हारा है।

Do you like this poem?

Spread the love

Leave a Comment

%d bloggers like this: